#MNN@24X7 जन सुराज पदयात्रा के दौरान सिवान के जीरादेई प्रखंड में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि यात्रा के दौरान उनको एक अनुभवी हजाम मिले थे तो उन्होंने हजाम से पूछा की नीतीश और लालू सरकार में क्या अंतर है तो उसने कहा, “अंतर कुछ नहीं है, लालू जी के समय में अपराधी जनता की हजामत बनाते थे और नीतीश जी के समय मे जनता की हजामत अधिकारी बनाते हैं।”

आगे प्रशांत किशोर ने कहा कि राजनीति में विकल्प तभी बनेंगे जब हम सब गांधी के पदचिन्हों पर चलेंगे, जैसे गांधी जी ने देश को आजाद करवाया था उस समय गांधी जी आगे-आगे चले और पीछे से पूरा समाज उनके साथ चला। अगर बिहार को बेरोजगारी, गरीबी और भ्रष्टाचार से मुक्त करवाना है तो बिहार के हर व्यक्ति को अपना कंधा लगाना पड़ेगा, प्रशांत किशोर के पैदल चलने से बिहार नहीं सुधरेगा।

Web development Darbhanga